Friday ,24th May 2024

विचारों और व्यक्तिव दोनों का समावेश लिए कर्म पथ पर बढ़ता व्ययक्ति ?

 

पत्रकारिता के डेढ़ दशक के अनुभव में वैसे तो कभी किसी से नही मिली औऱ पत्रकारिता से मिलने वाला श्रम घर खर्च को कफ़ी नही होता इस लिए इधर उधर नोकरी भी करनी पड़ती है ।

इन्ही सब के चलते एक सरल व्यक्तिव के धनी औऱ हमेशा हँसमुख दिखने वाले एक अधिकारी से मिलना हुआ अधिकारी महोदय से मिलने के बाद उनके विचार को लेकर राहत इंदौरी की चंद लाईन याद आगयी ।

 

मेरे हिस्से की ज़मी भी तू रखले मेरे भाई .....

मेरा मक़सद है कि इस ज़मी में दीवार खड़ी न हो ........


ऐसी सोच रखने वाला व्यक्ति कभी भी कही भी नही हारता चाहें फिर आप कितना भी प्रताड़ित औऱ परेशन करले ।

युवाओं को एक नई ऊर्जा से भरने वाला ये अधिकारी वैसे तो अपने कर्म क्षेत्र से एक आईपीएस अधिकारी है । लेकिन अपनी सरल कार्यप्रणाली औऱ उच्च व्यवहार के चलते सरकार ने इन्हें पुलिस विभाग की जगह प्रशासन में रखा हुआ है ।

ये भी अपनी पूरी ऊर्जा के साथ सरकार के हर कार्य को युवाओं के साथ युवा सोच से आगे बढ़ा रहे है । साथ ही सरकार की हर योजना पर पैनी नज़र रखकर उसमे सुधार भी कर रहे है । 

ऐसा बहौत कम देखने को मिलता है कि विचारों और व्यक्तिव दोनों का समावेश एक साथ हो ।

 

Comments 0

Comment Now


Total Hits : 278420