Friday ,24th May 2024

​स्वास्थ्य कर्मी की कोरोना से मौत पर स्वास्थ्य कर्मचारियों का सीएमएचओ कार्यालय पर जमकर हंगामा…

रिपोर्ट- अमित बागलीकर
 
 
स्वास्थ्य कर्मचारियों का सीएमएचओ कार्यालय पर जमकर  हंगामा…
 
कोरोना योद्धा को शासन की ओर से मिलने वाली सुविधाओं की मांग…
 
अमलतास स्थान पर लापरवाही के आरोप भी लगे…
 
 
देवास। आज देवास के जिला अस्पताल में पदस्थ एक स्वास्थ्य कर्मी की कोरोना से मौत हो गई। जिला अस्पताल में ड्रेसर के पद पर पदस्थ स्वास्थ्यकर्मी शरद धूरिया की चार-पांच दिन पहले कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। उसका अमलतास अस्पताल में इलाज चल रहा था। कोरोना से जंग लड़ते लड़ते हार गया और उसकी मौत हो गई। उनके शव को शव वाहन से श्मशान ले जाते समय जिला अस्पताल के सामने बड़ी संख्या में मौजूद स्वास्थ्य कर्मियों ने पुष्प वर्षा कर अपने साथी को अंतिम विदाई दी। स्वास्थ्य कर्मियों ने अपने साथी को 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी। स्वस्थकर्मी वहां से नारेबाजी करते सीएमएचओ कार्यालय पहुंचे जहां जमकर हंगामा हुआ। अपने साथी को कोरोना योद्धा की शहादत पर शासन द्वारा घोषित सुविधा का लाभ दिलाने और जिला अस्पताल के स्वास्थ्यकर्मियों की कोरोना जांच कराने की मांग की।
 
आपको बता दें कोरोना का कहर जिला अस्पताल में भी जमकर बरपा है। स्वस्थ कर्मियों के मुताबिक जिला अस्पताल के करीब 10 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव हैं। इनमें 5 स्वास्थ्यकर्मी सीएमएचओ ऑफिस के बताए गए हैं। स्वास्थ्य कर्मी शरद की मौत से गुस्साए सभी स्वास्थ्य कर्मी सीएमएचओ ऑफिस पहुंचे जहां जमकर हंगामा किया। स्वास्थ्य कर्मियों का आरोप है कि जब भी कोई स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव होता है, तो उसे सीएमएचओ सहित स्वास्थ विभाग के आला अधिकारी देखने तक नहीं जाते। स्वास्थ्य कर्मियों ने शरद के उपचार में अमलतास अस्पताल की लापरवाही का आरोप भी लगाया है।
आपको बता दें कोरोना का कहर जिला अस्पताल में भी जमकर बरपा है। स्वस्थ कर्मियों के मुताबिक जिला अस्पताल के करीब 10 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव हैं। इनमें 5 स्वास्थ्यकर्मी सीएमएचओ ऑफिस के बताए गए हैं। स्वास्थ्य कर्मी शरद की मौत से गुस्साए सभी स्वास्थ्य कर्मी सीएमएचओ ऑफिस पहुंचे जहां जमकर हंगामा किया। स्वास्थ्य कर्मियों का आरोप है कि जब भी कोई स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव होता है, तो उसे सीएमएचओ सहित स्वास्थ विभाग के आला अधिकारी देखने तक नहीं जाते। स्वास्थ्य कर्मियों ने शरद के उपचार में अमलतास अस्पताल की लापरवाही का आरोप भी लगाया है।
 
सीएमएचओ डॉक्टर एमपी शर्मा का कहना है की स्वास्थ्य कर्मी शरद की मौत की दुखद खबर प्राप्त हुई है। हमारा प्रयास होगा की कोरोनायोद्धा को मिलने वाली सारी सुविधाएं और परिवार के एक सदस्य को अनुकंपा नौकरी दिलाई जाए। उन्होंने कहा जो स्वास्थ्य कर्मी अन्य बीमारियों से ग्रसित है उनकी ड्यूटी कोविड-19 में नहीं लगाई जाएगी। कर्मचारियों के आक्रोश और हंगामे पर उनका कहना था कि जब परिवार में कोई दुखद घटना होती है तो इस तरह के आक्रोश स्वाभाविक होते हैं।
 

Comments 0

Comment Now


Total Hits : 278422